Attitude Shayari, Jab Ishq Karta Hoon

Advertisement

Jab Ishq Karta Hoon Main To Toot Kar Karta Hoon,
Ye Kaam Mujhe Jaroorat Ke Hisaab Se Nahin Aata.

जब इश्क करता हूँ मैं तो टूट कर करता हूँ,
ये काम मुझे जरूरत के हिसाब से नहीं आता।

Koi Jaan Bhi Le Le Harakar Mujhko, To Manzoor Hai,
Dhokha Dene Walon Ko Main Dusra Mauka Nahin Deta.

कोई जान भी ले ले हराकर मुझको तो मंज़ूर है,
धोखा देने वालों को मैं दूसरा मौका नहीं देता।

Dosto Aisa Nahin Ki Kad Ghat Gaye Apne,
Chadar Ko Apni Dekhkar Ham Khud Simat Gaye.

दोस्तो ऐसा नहीं कि कद घट गए अपने,
चादर को अपनी देखकर हम खुद सिमट गए।

Advertisement

Dekhkar Kiya Karo Logo Se Meri Burai,
Tumhare Tamam Apne Mere Hi Mureed Hain.

देखकर किया करो लोगो से मेरी बुराई,
तुम्हारे तमाम अपने मेरे ही मुरीद हैं।

Poora Na Kar Sakoon Aisa Vada Nahin Karta,
Daava Koi #Aukaat Se Jyaada Nahin Karta.

पूरा न कर सकूँ ऐसा वादा नहीं करता,
दावा कोई #औकात से ज्यादा नहीं करता।

Ilaaj Ye Hai Ki Majboor Kar Diya Jaoon,
Nahin To Yoon Kisi Ki Nahin Sun Hamne.

इलाज ये है कि मजबूर कर दिया जाऊँ,
नहीं तो यूँ किसी की नहीं सुनी हमने।

Advertisement