Maa Shayari

Maa Ki Aagosh Mein

Pahado Jaise Sadme Jhelti Hai Umr Bhar Lekin,
Ik Aulad Ki Takleef Se Maa Toot Jati Hai.

पहाड़ो जैसे सदमे झेलती है उम्र भर लेकिन,
इक औलाद की तकलीफ़ से माँ टूट जाती है।

Maa Toot Jaati Hai - Maa Shayari

Kal Maa Ki God Mein, Aaj Maut Ki Aagosh Mein,
Ham Ko Duniya Mein Ye Do Waqt Bade Suhane Se Mile.

कल माँ की गोद में, आज मौत की आग़ोश में,
हम को दुनिया में ये दो वक़्त बड़े सुहाने से मिले।

[ Read more Shayari... ]


Advertisement

Maa Shayari, Maa Ki Tasveer

Heart Touching Maa Shayari

Bahut Bechain Ho Jata Hai Jab Kabhi Dil Mera,
Main Apne Pars Mein Rakhi Maa Ki Tasveer Ko Dekh Leta Hoon.

बहुत बेचैन हो जाता है जब कभी दिल मेरा,
मैं अपने पर्स में रखी माँ की तस्वीर को देख लेता हूँ।

Besan Ki Roti Par, Khatti Chatni Jaisi Maa..
Yaad Aati Hai Chauka, Baasan, Chimta, Phoonkni Jaisi Maa.

बेसन की रोटी पर, खट्टी चटनी सी माँ...
याद आती है चौका, बासन, चिमटा, फूंकनी जैसी माँ।

[ Read more Shayari... ]


Maa Ki Khidmat

Maa Ki Ajmat Se Achchha Jaam Kya Hoga,
Maa Ki Khidmat Se Achchha Kaam Kya Hoga,
Khuda Ne Rakh Di Ho Jis Ke Kadmo Mein Jannat,
Socho Uske Sar Ka Mukaam Kya Hoga.

माँ की अजमत से अच्छा जाम क्या होगा,
माँ की खिदमत से अच्छा काम क्या होगा,
खुदा ने रख दी हो जिस के कदमों में जन्नत,
सोचो उसके सर का मुकाम क्या होगा।

Maa Sayari - Maa Ki Khidmat

Best Shayari About Care Of Mother

Koi Dua Asar Nahin Karati,
Jab Tak Wo Ham Par Najar Nahin Karti,
Ham Uski Khabar Rakhe Na Rakhe,
Wo Kabhi Hamen Bekhabar Nahin Karti.

कोई दुआ असर नहीं करती,
जब तक वो हम पर नजर नहीं करती,
हम उसकी खबर रखे न रखे,
वो कभी हमें बेखबर नहीं करती।


Advertisement

Maa Shayari, Jaan ‎Hatheli‬ Par

Yun Hi Nahin Goonjti Kilakariyan‬ Ghar Aangan‬ Ke Kone Mein,
Jaan ‎Hatheli‬ Par Rakhni‪ Padti Hai "Maa" Ko "‪Maa‬" Hone Mein.

यूं ही नहीं गूंजती किलकारियां‬ घर आँगन‬ के कोने में,
जान ‎हथेली‬ पर रखनी‪ पड़ती है "माँ" को "‪माँ‬" होने में।

Jab Jab Kagaz Par Likha, Maine "Maa" Ka Naam,
Kalam Adab Se Bol Uthi, Ho Gaye Chaaro Dham.

जब जब कागज पर लिखा, मैने "माँ" का नाम,
कलम अदब से बोल उठी, हो गये चारो धाम।

[ Read more Shayari... ]


Maa Shayari, Muskurati Huyi Maa

Jiske Hone Se Main Khud Ko Mukkammal Maanta Hoon,
Mere Rab Ke Baad Main Bas Apni Maa Ko Janta Hoon.

जिसके होने से मैं खुद को मुक्कम्मल मानता हूँ,
मेरे रब के बाद मैं बस अपनी माँ को जानता हूँ।

Muskurati Hui Maa - Maa Shayari

Khoobsurti Ki Intha Bepanah Dekhi,
Jab Maine Muskurati Huyi Maa Dekhi.

खूबसूरती की इंतहा बेपनाह देखी,
जब मैंने मुस्कुराती हुई माँ देखी।

[ Read more Shayari... ]


Advertisement